May 27, 2022
शहर में चल रहे स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट की वीडियोग्राफी भी कराएं

शहर में चल रहे स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट की वीडियोग्राफी भी कराएं

स्मार्ट सिटी के कार्यों की कलेक्टर ने की विस्तार से समीक्षा
स्मार्ट प्रोजेक्टों के रख-रखाव के लिये एक कमेटी गठित

ग्वालियर। कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने स्मार्ट सिटी के कार्यों की विस्तार से समीक्षा की। उन्होंने कहा कि शहर में स्मार्ट सिटी के तहत जो कार्य पूर्ण किए गए हैं, उसकी देखरेख भविष्य में किस प्रकार होगी, इस पर भी गंभीरता से विचार किया जाए और कार्ययोजना बनाकर उसको अमलीजामा पहनाया जाए। कलेक्ट्रेट के सभाकक्ष में आयोजित स्मार्ट सिटी के कार्यों की समीक्षा बैठक में नगर निगम आयुक्त किशोर कान्याल सहित स्मार्ट सिटी से जुड़े अधिकारी और निर्माण एजेन्सी के लोग शामिल हुए।
कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि स्मार्ट सिटी द्वारा जो प्रोजेक्ट पूरे किए गए हैं उनकी वर्तमान में देखरेख संबंधित निर्माण एजेन्सी कर रही है। निर्धारित अवधि के पश्चात उन कार्यों की देखरेख किस प्रकार होगी, इस पर भी अभी से विचार और कार्य करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि जिन कार्यों से राजस्व संग्रहण किया जा सकता है उससे अवश्य किया जाए। उक्त पैसे को अलग खाते में रखा जाए ताकि भविष्य में संधारण के कार्य में उसको व्यय किया जा सके। नगर निगम आयुक्त किशोर कान्याल ने बैठक के प्रारंभ में स्मार्ट सिटी द्वारा किए जा रहे कार्यों की विस्तार से समीक्षा की। उन्होंने किलागेट से हजीरा मार्ग, बेहटा से जड़ेरूआ डैम और गोला का मंदिर से महाराजपुरा तक बनाई जाने वाली सर्विस लेन सड़क के कार्यों की समीक्षा की और निर्माण एजेन्सियों को निर्देशित किया कि वे निर्धारित समय-सीमा में पूर्ण गुणवत्ता के साथ अपने प्रोजेक्ट को पूर्ण करें। उन्होंने यह भी निर्देशित किया कि जिन प्रोजेक्टों पर कार्य किया जा रहा है, उसकी माह में एक बार ड्रोन से वीडियोग्राफी अवश्य कराएँ, ताकि समीक्षा के दौरान किए गए कार्यों और उनमें आ रही दिक्कतों की समीक्षा हो सके और उसे दूर किया जा सके।

कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने यह भी कहा कि स्मार्ट सिटी द्वारा जिन इमारतों पर फसाड लाईट की गई है उनके विद्युत देयकों का भुगतान वर्तमान में स्मार्ट सिटी द्वारा किया जा रहा है। महाराज बाड़े पर जिन भवनों पर फसाड लाईटिंग की गई है उन विभागीय अधिकारियों के साथ भी बैठक आयोजित कर विद्युत देयकों के संबंध में चर्चा की जाए। कलेक्टर ने यह भी कहा कि स्मार्ट सिटी के सभी कार्यों के संचालन एवं संधारण के लिये एक कमेटी भी बनाई जाए। जिसमें एडिशनल एसपी, एडीएम, अपर आयुक्त नगर निगम, कार्यपालन अधिकारी पीएचई, कार्यपालन अधिकारी एनएचआई को रखा जाए।
कलेक्टर श्री सिंह ने निगम आयुक्त से यह भी कहा कि वे प्रत्येक प्रोजेक्ट के लिये निगम की ओर से भी एक नोडल अधिकारी तैनात करें, ताकि भविष्य में निगम को संधारण एवं संचालन का कार्य करना पड़े तो किसी प्रकार की दिक्कत न आए।
कंट्रोल कमाण्ड सेंटर की समीक्षा के दौरान कलेक्टर श्री कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने कहा कि सेंटर का उपयोग अन्य विभागों के लिये किस प्रकार उपयोगी हो सकता है उस पर भी कार्य किया जाए। विभिन्न प्रोजेक्टों और योजनाओं के क्रियान्वयन में कंट्रोल कमाण्ड सेंटर अपनी सार्थक भूमिका निभाए, इस दिशा मे विशेष प्रयास किए जाएं।
बैठक में यह भी कहा गया कि स्मार्ट सिटी द्वारा तैयार किए गए डिजिटल म्यूजियम, तारा मण्डल, डिजिटल लाइब्रेरी, उद्यान एवं अन्य कार्यों की एप्रोच को और अधिक व्यवस्थित किया जाए। डिजिटल प्लेटफार्म पर भी स्मार्ट सिटी की जानकारी और शहर विकास में किए गए कार्यों की विस्तृत डिटेल भी डाली जाए ताकि अधिक से अधिक लोग उसका अवलोकन कर सकें।
स्मार्ट सिटी द्वारा वीर सावरकर सरोवर (कटोराताल) पर स्थापित किए गए म्यूजिकल फाउण्टेन का अधिक से अधिक लोग आनंद ले सकें, इसके लिये वहाँ पर व्यवस्थित बैठक व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। इसके साथ ही एंट्री प्वॉइंट को ठीक करें। म्यूजिकल फाउण्टेन को देखने आने वाले नागरिकों को और बेहतर सुविधायें मिलें यह भी सुनिश्चित किया जाए।
जिले के युवा अपना स्वयं का रोजगार स्थापित करें, इसके लिये स्मार्ट सिटी के माध्यम से स्टार्टअप ग्वालियर का कार्य किया जा रहा है। इस कार्य को और व्यापक स्तर पर करें ताकि युवा आगे आकर अपना रोजगार स्थापित कर सके। अपना रोजगार स्थापित करने वाले युवाओं को अन्य विभागों और बैंकों के माध्यम से भी पूरा सहयोग मिले, इसके लिये भी स्मार्ट सिटी के अधिकारी विशेष प्रयास करें।
कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने बैठक में यह भी कहा कि स्मार्ट सिटी के माध्यम से चौपाटी जैसे अन्य सेंटर भी विकसित हों और पीपीपी मोड पर अन्य परियोजनाओं को भी स्मार्ट सिटी शहर में लाए ताकि शहरवासियों को और बेहतर सुविधायें उपलब्ध हो सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *